Get it on Google Play

ज्योतिषी से फायदा कैसे उठायें ?

0
43

कल बहुत से लोगों ने फेसबुक पर अपनी कुंडली बताई, दिखाई और अपनी जिज्ञासा रखी | बहुत से लोगों ने फीस भी पूछी और मैंने बताया कि मैं कोई फीस नहीं लेता, तो आश्चर्य भी किया | पर अब सोच रहा हूँ कि फीस रख ही लेता हूँ, लोग अगर फीस वाले ज्योतिषी को ही बड़ा मानते हैं, सो यही सही | खैर, अपनी फीस तो मैं अंत में बताऊंगा, ताकि आपको कोई बड़ा झटका न लगे, इतनी ज्यादा फीस देखकर 😉तब तक आपको बताता हूँ कि किसी ज्योतिषी का सबसे ज्यादा फायदा कैसे उठायें |

१. जब भी ज्योतिषी से कुंडली के बारे में पूछें तो कोशिश करें कि फोन पर, नेट पर, व्हात्सप्प या फेसबुक पर न पूछें (lockdown की बात अलग है, अभी चल जाएगा 😌) यदि ज्योतिषी का अधिक से अधिक फायदा उठाना है तो खुद ज्योतिषी के घर जाएँ | यदि आप उसके घर जायेंगे, तो वो चार बातें ऐसी भी बता पायेगा, जिन्हें चैट पर या फोन पर कहना, समझाना मुश्किल होता है | कुछ बातें, ज्योतिषी इशारों में बताते हैं, जैसे मृत्यु अथवा कष्ट के बारे में (जो डायरेक्ट बताते हैं, उन्हें हमारे यहाँ अच्छा ज्योतिषी नहीं मानते हैं क्योंकि ऐसी बातें डायरेक्ट नहीं बताई जाती, जातक डर जाता है और उस डर/धबराहट से, उसके अन्य काम प्रभावित होते हैं) और भी बहुत कुछ ऐसा होता है, जो ज्योतिषी आमने सामने बैठकर अच्छा बता सकता है, अतः प्रयास करें कि पर्सनल ही जाएँ, चाहे कितनी भी दूर ही क्यों न हो | बचपन में, मेरे घर पर, पिताजी से कुंडली दिखाने के लिए लोग, कनाडा तक से आ जाते थे, आप तो फिर भी भारत में ही रहते हैं, हाँ यदि कोई बहुत अर्जेंसी है तो बात अलग है पर प्रयास पर्सनल मिलने का ही करना चाहिए |

२. जब भी ज्योतिषी के पास जाएँ तो पूरी श्रद्धा के साथ जाएँ, जैसे डॉक्टर के पास जाते हैं, जैसे वकील के पास जाते हैं कि वो आपके भले का ही बतायेंगे | जैसे सभी डॉक्टर खराब नहीं होते पर सभी डॉक्टर पेशेंट को सही भी नहीं कर पाते, ऐसे ही ज्योतिष में होता है | हम बहुधा डॉक्टर बदलते हैं, डोक्टरी को भला बुरा प्रायः नहीं कहते हैं ऐसे ही ज्योतिषी में गडबड हो सकती है, पर ज्योतिषी के गलत कथन को, ज्योतिष विद्या पर आरोपित नहीं करना चाहिए और जैसे डॉक्टर के पास जाते वक्त विश्वास रखते हैं कि ये अच्छा डॉक्टर है, वैसे ही ज्योतिषी पर भी विश्वास रखें |

3. ज्योतिष का अर्थ होता है – आँख, चक्षु, नेत्र | आँख आपको बता देगी कि आगे गड्ढा आने वाला है, सम्भल जाइये | संभलना और न संभलना, आपकी जिम्मेदारी है | लेकिन कुछ लोग गड्ढा देखकर भयभीत हो जाते हैं, ओह ! गड्ढा !!! Oh My God ! अतः यदि आप कमजोर दिल वाले हैं, जल्दी घबरा जाते हैं तो ज्योतिषी के पास न जाएँ |

४. ज्योतिषी फीस लेता हो या न लेता हो, उसे उसकी फीस के लिए बड़ा या छोटा न आंकें | जैसे डॉक्टर्स में होता कि अरे ! फलाना बड़ा मंहगा डॉक्टर है, एक विजिट के १००० रूपये लेता है तो जरूर बड़ा और अच्छा डॉक्टर होगा, ऐसा ज्योतिष में न सोचें | (मेरा पर्सनल अनुभव है कि फीस न लेने वाले, ज्योतिषी अच्छे होते हैं, कम से कम, आर्थिक नुक्सान तो नहीं करते 😆 और अगर बात सही निकल जाए तो बोनस)

5. ज्योतिषी के पास जब भी कुंडली दिखाए, उसके पास जाएँ तो खाली हाथ न जाएँ | भले ही वो फीस न लेता हो, पर फिर भी खाली हाथ न जाएँ | कुछ फल ले जाएँ, कुछ मिठाई ले जाएँ, कुछ भी, पर खाली हाथ न जाएँ | क्यों ? क्योंकि आप अपने बारे में उससे पूछने जा रहे हैं, जाहिर है, उसका कोई पर्सनल लाभ तो है नहीं, खासतौर से अगर फीस नहीं ले रहा है तो ! पर वो अपना समय खर्च कर रहा है, आपके साथ बैठ रहा है, अपनी बुद्धि, आपकी कुंडली में लगा रहा है तो अपना इतना तो बनता है कि खाली हाथ, उसके यहाँ न जाएँ | सोचिये, क्या कोई डॉक्टर, कोई वकील या कोई अन्य प्रोफेशनल, आपको बिना किसी फीस के समय देता है ? नहीं न ! तो ज्योतिषी का भी सम्मान करें, ये उसकी बड़ाई है कि वो अपने समय की फीस नहीं ले रहा पर आपकी भी बड़ाई इसी में है कि वो ले या न ले, उसके घर खाली हाथ न जाएँ |

6. ज्योतिषी को कभी अपनी समस्या पहले न बताएं | पहले उसको सुने, वो आपके बारे में क्या क्या बता रहा है, अगर नहीं बता रहा है, तो उससे कहें कि कृपया मेरे बारे में कुछ बताएं | इससे होगा ये कि आप किसी फर्जी ज्योतिषी के चक्कर में नहीं फंसेंगे | उसकी बातों से आपको अंदाजा हो जाएगा कि ये कितना सही और कितना गलत बता रहा है | अच्छा ज्योतिषी होगा तो आपसे पहले प्रश्न करेगा, आपके बारे में | कि आपके साथ पहले ऐसा हुआ था क्या ? कहीं चोट लगी थी क्या ? बचपन में ऐसा हुआ था क्या ? वैसा हुआ था क्या ? पिता जी के साथ अनबन है क्या ? आदि | वो ये सब पूछेगा, कुंडली चेक करने के लिए, कि जो कुंडली वो देख रहा है, वो सही भी है या नहीं या जो वो देख पा रहा है, वो सब मैच ही नहीं करता | पर वो यदि कुंडली मैच नहीं करता है और आप अपनी समस्या बता देते हैं तो वो उसका कुछ भी बता सकता है, आपको पता ही नहीं चलेगा | अतः पहले पास्ट के बारे में पता करें, फिर फ्यूचर के बारे में पूछें | तो अच्छा रहेगा |

7. यदि कोई ज्योतिषी आपको सही मिल जाये, किस्मत से | तो उसके बारे में अन्य लोगों को अवश्य बताया कीजिये | क्योंकि अच्छे ज्योतिषी आसानी से आजकल नहीं मिलते हैं | ठीक वैसे, जैसे अच्छे अस्पताल नहीं मिलते हैं | अतः अपना अनुभव दूसरों को बताया कीजिये | यदि कोई खराब ज्योतिषी मिल जाता है तो हम कैसे अपना अनुभव शेयर करते हैं, वैसे ही, यदि किस्मत से अच्छा ज्योतिषी मिल जाए तो एक फेसबुक पोस्ट डाल दिया कीजिये, एक ट्वीट कर दिया कीजिये और कुछ नहीं है तो अपने सगे सम्बन्धियों को बता दिया कीजिये | हो सकता है, किसी और का भी कुछ भला हो जाए, जिसे इसकी जरूरत हो |

रही बात मेरी फीस की 😁 तो मैंने सोचा है कि मेरी फीस इतनी तो होनी ही चाहिए कि लोग कुंडली लाने से पहले सोचें | मैं पहले से ही बहुत बीजी हूँ और फिर ये काम करने में और व्यस्तता हो ही जानी है तो अन्य कार्य प्रभावित भी हो सकते हैं | अतः मैंने बहुत सोच विचार कर अपनी फीस रखी है, कम से कम १ रुपया | इसे आप कुंडली दिखाने के बाद (पहले नहीं) ऑनलाइन, ऑफलाइन कैसे भी भेज सकते हैं | इतनी बड़ी फीस, देख कर आशा है, आपको हार्ट अटैक नहीं आया होगा | अतः सब लोग लाइन में आयें, बहुत भीड़ है मेरे पास और हाँ, फीस देना मत भूलियेगा 😎

अभिनन्दन शर्मा
(facebook – https://www.facebook.com/abhinandan.sharma.9809 )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here