You cannot copy content of this page
Get it on Google Play

एक नाटक – यतो धर्मः ततो जयः

Tagged , , Leave a Comment on एक नाटक – यतो धर्मः ततो जयः

सनातन धर्म Vs हिन्दू (नाटक – यतो धर्मः ततो जयः) दो किरदार हैं, आप इन्हें राम और लक्ष्मण, जैसे टीवी में दिखाए गए थे, उनकी तरह से ले सकते हैं | दृश्य […]

READ MORE

भगवान् है या नहीं ?

Tagged , , Leave a Comment on भगवान् है या नहीं ?

बुद्धिश्च हायते पुंसां नाचैत्तगह समागमात | मध्यस्थेमध्यताम याति श्रेष्ठताम याति चौत्तमे || नारद जी कहते हैं – नन्दभद्र नाम का एक वणिक था | धर्मों के विषय में जो कुछ कहा गया […]

READ MORE

माता-पिता का महत्व

Tagged , , Leave a Comment on माता-पिता का महत्व

पिता स्वर्गः पिता धर्मः पिता हि  परमं तपः । पितरि प्रितिमापन्ने सर्वाः प्रोणन्ति देवताः ।। यह सन्दर्भ चिरकारी की कथा से लिया गया है जिसमें चिरकारी माता और पिता के महत्त्व को […]

READ MORE

दान की परिभाषा और प्रकार

Tagged , , 1 Comment on दान की परिभाषा और प्रकार

द्विहेतु षड्धिष्ठानाम षडंगम च द्विपाक्युक् । चतुष्प्रकारं त्रिविधिम त्रिनाशम दान्मुच्याते ।। सन्दर्भ – राजा धर्म वर्मा दान का तत्व जानने की इच्छा से बहुत वर्षों तक तपस्या की, तब आकाशवाणी ने उनसे […]

READ MORE

संसार सृष्टि

Tagged , , Leave a Comment on संसार सृष्टि

मस्तकस्थापिनम मृत्युम यदि पश्येदयम जनः । आहारोअपि न रोचते किमुताकार्यकारिता ।। अहो मानुष्यकं जन्म सर्वरत्नसुदुर्लभम । तृणवत क्रियते कैश्चिद योषिन्मूढ़ेर्नराधमै ।। सन्दर्भ – जब अर्जुन पांच तीर्थों में स्नान  करने के लिए गए […]

READ MORE

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: