You cannot copy content of this page
Get it on Google Play

कलियुग की प्रवृत्ति का वर्णन

Tagged , , 6 Comments on कलियुग की प्रवृत्ति का वर्णन

कलेर्दोषेनिवेश्चैव शृणु चैकं महागुणं | यदल्पेन तु कालेन सिद्धि गच्छति मानवाः || (1) त्रेतायां वार्षिको धर्मो द्वापरे मासिकः स्मृतः | यथा क्लेशं वरन प्राश्स्तहा प्राप्यते कलौ ||  (2) दुगत्रयेण तावन्तः सिद्धि गच्छन्ति […]

READ MORE

अध्याय १

Tagged , , Leave a Comment on अध्याय १

लोकानामन्तकृत्कालः कालोन्यः कल्नात्मकः | स द्विधा स्थूल सुक्ष्मत्वान्मूर्त श्चामूर्त उच्यते || अर्थात – एक प्रकार का काल संसार का नाश करता है और दूसरे प्रकार का कलानात्मक है अर्थात जाना जा सकता […]

READ MORE

कलियुग का भविष्य कथन

Tagged , , Leave a Comment on कलियुग का भविष्य कथन

राजन ! अट्ठाइसवें कलियुग में जो कुछ होने वाला है, उसे सुनो ! कलियुग के तीन हजार दो सौ नब्बे वर्ष व्यतीत होने पर इस भूमंडल में वीरों का अधिपति शूद्रक नामका […]

READ MORE

काल का मान

Tagged , , 2 Comments on काल का मान

अब मैं तुमसे काल का मान बताऊंगा, उसे सुनो – विद्वान लोग पंद्रह निमेष की एक ‘काष्ठा’ बताते हैं । तीस काष्ठा की एक ‘कला’ गिननी चाहिए । तीस कला का एक […]

READ MORE

ब्राह्मण के प्रकार – नारद जी के छठे एवं सातवें प्रश्न का उत्तर

Tagged , , Leave a Comment on ब्राह्मण के प्रकार – नारद जी के छठे एवं सातवें प्रश्न का उत्तर

किस श्रेष्ठ ब्राह्मण को आठ प्रकार के ब्राह्मणत्त्व का ज्ञान है ? विप्रवर !  अब आप ब्राह्मण के आठ भेदों का वर्णन सुने – मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और […]

READ MORE

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: