Tag Archive: वेद

Aug 14

कालभीति का शिवजी से वाद विवाद

न जायते कुलम यस्य बीजशुद्धि बिना ततः | तस्य खादन पिबतृ वापि साधुः सांदति तत्क्षणात् || कालभीति एक बिल्व वृक्ष के नीचे एक पैर के अंगूठे के अग्र भाग पर खड़े हो मंत्रों का जाप करने लगे | जाप  का नियम ग्रहण करने के पश्चात वे सौ वर्षों तक जल कि एक एक बूँद पीकर रहे …

Continue reading »

Feb 18

ब्राह्मण के प्रकार – नारद जी के छठे एवं सातवें प्रश्न का उत्तर

किस श्रेष्ठ ब्राह्मण को आठ प्रकार के ब्राह्मणत्त्व का ज्ञान है ? विप्रवर !  अब आप ब्राह्मण के आठ भेदों का वर्णन सुने – मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और मुनि – ये आठ प्रकार के ब्राह्मण श्रुति में पहले बताये गए हैं । इनमें विद्या और सदाचार की विशेषता से पूर्व पूर्व …

Continue reading »

Oct 27

उद्देश्य

इस ब्लॉग का उद्देश्य शास्त्रों के ज्ञान का प्रसार और सर्व साधारण को अपने शास्त्रों और वेदों की नीतियों से अवगत करना है । मैंने अभी कुछ समय पूर्व ही यथासंभव कुछ पुस्तकों का अध्ययन करना प्रारंभ किया है और ये निर्धारित किया है की जो कुछ भी मैं पढूंगा उसको सभी पाठको की सेवा …

Continue reading »