Tag Archive: पुराण

Jun 17

तीर्थ क्या, क्यों और कैसे ?

महतां दर्शनं ब्रह्मज्जायते न हि निष्फलं | द्वेषादज्ञानतो वापि प्रसन्गाद्वा प्रमादतः || अयसः स्पर्शसंस्पर्शो रुक्मत्वायैव जायते | — ब्रह्म पुराण अर्थ – महापुरुषों का दर्शन निष्फल नहीं होता, भले ही वह द्वेष अथवा अज्ञान से ही क्यों न हुआ हो | लोहे का पारसमणि से प्रसंग या प्रामद से भी स्पर्श हो जाय तो भी …

Continue reading »

Dec 16

संसार सृष्टि

मस्तकस्थापिनम मृत्युम यदि पश्येदयम जनः । आहारोअपि न रोचते किमुताकार्यकारिता ।। अहो मानुष्यकं जन्म सर्वरत्नसुदुर्लभम । तृणवत क्रियते कैश्चिद योषिन्मूढ़ेर्नराधमै ।। सन्दर्भ – जब अर्जुन पांच तीर्थों में स्नान  करने के लिए गए और जब उन्होंने पांच ग्राहों को श्राप मुक्त कराया और उन पांचो सुंदर स्त्रियों से ग्राह्स्वरूप में श्रापग्रस्त होने का कारण पुछा तब …

Continue reading »

Oct 27

उद्देश्य

इस ब्लॉग का उद्देश्य शास्त्रों के ज्ञान का प्रसार और सर्व साधारण को अपने शास्त्रों और वेदों की नीतियों से अवगत करना है । मैंने अभी कुछ समय पूर्व ही यथासंभव कुछ पुस्तकों का अध्ययन करना प्रारंभ किया है और ये निर्धारित किया है की जो कुछ भी मैं पढूंगा उसको सभी पाठको की सेवा …

Continue reading »