Tag Archive: कर्तव्य क्या है

Feb 05

अघोरी बाबा की गीता – भाग ७

नटराज का नर्तन मनुष्य सबसे पहले अपनी चिंता करता है, फिर अपने परिवार की, उसके बाद समाज की और सबसे बाद में देश की | लेकिन नीति कहती है कि जब देश पर विपत्ति आये तो मनुष्य अपने गाँव/परिवार को त्याग दे और देश को बचाने के प्रयत्न करे | जब गाँव/समाज पर मुसीबत आये …

Continue reading »

Dec 25

अघोरी बाबा की गीता – भाग ६

#नटराज_का_नर्तन   अगले दिन ही मैंने गीता जी मिलने का निश्चय किया लेकिन रविवार सुबह मैं पूजा करता हूँ तो थोडा लेट हो जाता है इसलिए शाम को ४-५ बजे के आस पास निकलने का तय किया | यही सोचते सोचते अखबार उठा कर पढने लगा | अचानक अखबार की खबर पढ़ कर जैसे करंट …

Continue reading »

Nov 27

मनुष्य जन्म का सार

धर्मे रागः श्रुतो चिंता दाने व्यसनमुत्तमम । इन्द्रियार्धेषु वैराग्यं संप्राप्तं जन्मनः फलम ।। सन्दर्भ – कात्यायन ने धर्म को समझने के लिए कठोर तप किया, जिस से आकाशवाणी हुई और उसने कहा की हे कात्यायन तुम पवित्र सरस्वती नदी के तट पर जा कर सारस्वत मुनि से मिलो । वे धर्म के तत्व् को जान …

Continue reading »