«

»

Nov 11

तीर्थ क्या हैं ?

जायन्ते च भ्रियन्ते च जलेप्वेव जलौकसः। न च गच्छअन्ति ते स्वर्गमविशुदहमनोमलाः ।।
चित्तमंतर्गतम दुष्टं तीर्थस्नानंच शुध्यति । शतशोअपि जलैधौतम सुराभाण्डमिवाशुची ।।

सार : अगत्स्य ने लोपामुद्रा से कहा – निष्पापे ! मैं मनासतीर्थो का वर्णन करता हूँ, सुनो । इन तीर्थों मैं स्नान करके  मनुष्य परम गति को प्राप्त होता है । सत्य, क्षमा, इन्द्रिसंयम, सब प्राणियों के प्रति दया, सरलता, दान, मन का दमन, संतोष, ब्रह्मचर्य, प्रियाभाषण, ज्ञान, धृति और तपस्या – ये प्रत्येक एक एक तीर्थ है । इनमें ब्रहमचर्य परम तीर्थ है । मन की परम विशुद्धि तीर्थों का भी तीर्थ है । जल में डुबकी मारने का नाम ही स्नान नहीं है; जिसने इंद्री संयम रूप स्नान किया है, वही स्नान है और जिसका चित्त शुद्ध हो गया है, वही स्नान है ।

‘जो लोभी है, चुगलखोर हैं, निर्दय हैं, दम्भी हैं और विषयों मैं फंसा है, वह सारे तीर्थों में भली भांति स्नान कर लेने पर भी पापी और मलिन ही है । शरीर का मैल उतारने से ही मनुष्य निर्मल नहीं होता; मन के मैल को   पर ही भीतर से सुनिर्मल होता है । जलजंतु जल में ही पैदा होते हैं और जल में ही मरते हैं, परन्तु वे स्वर्ग में नहीं जाते; क्योंकि उनका मन का मैल नहीं धुलता । विषयों में अत्यंत राग ही मन का मैल है और विषयों से वैराग्य को ही निर्मलता कहते हैं । चित्त अंतर की वस्तु है, उसके दूषित रहने पर केवल तीर्थ स्नान से शुद्धि नहीं होती । शराब के भाण्ड को चाहे 100 बार जल से धोया जाये, वह अपवित्र ही रहता है; वैसे ही जब तक मन का भाव शुद्ध नहीं है, तब तक उसके लिए दान, यज्ञ, ताप, शौच, तीर्थसेवन और स्वाध्याय – सभी अतीर्थ है । जिसकी इन्द्रियां संयम मैं हैं, वह मनुष्य जहाँ रहता  है, वही उसके लिए कुरुक्षेत्र, नैमिषारण्य और पुष्करादि तीर्थ विध्यमान हैं । ध्यान से विशुद्ध हुए, रागद्वेषरुपी मल का नाश करने वाले ज्ञान जल में जो स्नान करता है, वाही परम गति को प्राप्त होता है ।

नोट : यहाँ श्लोक केवल सार रूप में  दिया गया है जिसमें  संपूर्ण श्लोक का सार निहित है । सम्पूर्ण श्लोक के अध्ययन के लिए नीचे दिए गए सन्दर्भ के अध्ययन का कष्ट करें ।

सन्दर्भ – स्कन्द पुराण – (काशीखण्ड 6 । 29-41)

3 comments

  1. Frenchie

    Thank you for any other inrfvmatioe blog. Where else may just I get that kind of info written in such a perfect means? I have a project that I’m simply now running on, and I’ve been at the look out for such info.

  2. Satya Narain

    तीर्थों की प्रकार कितनी हैं ? यह स्पष्ट नहीं हो पाया क्योंकि अलग अलग स्थानों पर अलग अलग विचार हैं i कृपया तीर्थों की प्रकार एवं नित्य तीर्थ आदि को विस्तार पूर्वक समझाएं i धन्यवाद

    1. Shastragyan

      प्रायः तीर्थ स्थान वो होते हैं, जहाँ भगवान् या तो स्वयम रहे हों या किसी बड़े मनस्वी, तपस्वी, ऋषि, मुनियों ने या तो सिद्धि पायी हो या उस जगह रहे हों, तप किया हो | इस प्रकार के जो स्थान होते हैं, उन्हें ही तीर्थ स्थान माना जाता है | यही वजह है कि ब्रज क्षेत्र तो तीर्थ है, पर उसके पास ही आगरा से भी यमुना जी जाती हैं किन्तु उसे तीर्थ नहीं माना जाता है | शास्त्रों में तीर्थाटन और तीर्थ यात्रा से महत्वपूर्ण विचार मानस तीर्थों का ज्यादा महत्व बताया गया है और उसी का सन्दर्भ यहाँ दिया गया है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!