Shastragyan

Author's details

Date registered: November 24, 2014

Latest posts

  1. अघोरी बाबा की गीता – भाग ८ — February 5, 2018
  2. अघोरी बाबा की गीता – भाग ७ — February 5, 2018
  3. अघोरी बाबा की गीता – भाग ६ — December 25, 2017
  4. अघोरी बाबा की गीता – भाग ५ — December 17, 2017
  5. अघोरी बाबा की गीता – भाग ४ — December 10, 2017

Most commented posts

  1. कलियुग की प्रवृत्ति का वर्णन — 6 comments
  2. भगवान शिव और बोडे का नियम — 4 comments
  3. उद्देश्य — 3 comments
  4. अध्याय 4 – ज्योतिष शास्त्र — 3 comments
  5. तीर्थ क्या हैं ? — 3 comments

Author's posts listings

Feb 05

अघोरी बाबा की गीता – भाग ८

नटराज का नर्तन मैंने ये बात बोलते बोलते हाथ जोड़ लिए थे, जिस से शायद उन्हें मेरी दीनता समझ में आ गयी थी कि मैं अभी भी भय से बाहर नहीं हूँ किन्तु प्रश्न किये बिना और विषय को समझे बिना मैं आगे भी नहीं बढ़ सकता हूँ | यही सोच कर शायद उन्होंने मेरे …

Continue reading »

Feb 05

अघोरी बाबा की गीता – भाग ७

नटराज का नर्तन मनुष्य सबसे पहले अपनी चिंता करता है, फिर अपने परिवार की, उसके बाद समाज की और सबसे बाद में देश की | लेकिन नीति कहती है कि जब देश पर विपत्ति आये तो मनुष्य अपने गाँव/परिवार को त्याग दे और देश को बचाने के प्रयत्न करे | जब गाँव/समाज पर मुसीबत आये …

Continue reading »

Dec 25

अघोरी बाबा की गीता – भाग ६

#नटराज_का_नर्तन   अगले दिन ही मैंने गीता जी मिलने का निश्चय किया लेकिन रविवार सुबह मैं पूजा करता हूँ तो थोडा लेट हो जाता है इसलिए शाम को ४-५ बजे के आस पास निकलने का तय किया | यही सोचते सोचते अखबार उठा कर पढने लगा | अचानक अखबार की खबर पढ़ कर जैसे करंट …

Continue reading »

Dec 17

अघोरी बाबा की गीता – भाग ५

इधर एक दिन कंपनी से आदेश हुआ कि गुवाहाटी जाओ और जैसा हर बार होता है, अपुन ने बोरिया बिस्तर बाँधा और पहुंच गए गुवाहाटी । गुवाहाटी मुझे बहुत पसंद है क्योंकि एक तो वहां पर बड़ा अच्छा मंदिर है सुक्रेश्वर महादेव मन्दिर और दूसरा मंदिर है उमानंदा मंदिर जो कि ब्रह्मपुत्र नद के बीच …

Continue reading »

Dec 10

अघोरी बाबा की गीता – भाग ४

एक बात बता, मैं इतना समझाता हूँ, उसके बाद भी तेरे प्रश्न ख़त्म नहीं होते ! लाता कहाँ से है इतने सवाल ? – बाबा ने आज डायरेक्टली ही पूछ लिया | आज बाबा ने वो बात पूछ ली, जिसे मैं बिना पूछे शायद किसी को भी नहीं बताता – बाबा, मैंने तो अभी तक …

Continue reading »

Dec 10

अघोरी बाबा की गीता – ३

मेरा गुरु के बारे में टॉपिक चेंज करने का आईडिया सही बैठ गया और बाबा, अब थोड़ा गंभीर हो गए । क्या तुम्हें पता है, शंकराचार्य को उसके गुरु कैसे मिले ? तानसेन को उसके गुरु कैसे मिले ? सूरदास को उसके गुरु कैसे मिले ? – सवालों की झड़ी लगा दी बाबा ने, मुझ …

Continue reading »

Dec 09

अघोरी बाबा की गीता – २

जैसे ही मैंने श और ष में अंतर पूछा, बाबा का चेहरा झुझला गया | ओह ! तो अब क्या व्याकरण भी पढ़ाना पड़ेगा ? ऊपर की तरफ देखते हुए बाबा बोले – इसे गीता पढ़ानी थी ! इसे तो क ख ग भी सिखाना पड़ेगा पहले !!! अब फिर से बातें सर के ऊपर …

Continue reading »

Dec 06

अघोरी बाबा की गीता – भाग 1

रोजाना की तरह मैं अपने आफिस से घर जा रहा था । एक हाथ में स्टीयरिंग, एक हाथ मे मोबाइल और कार में भजन, जैसा रोज होता है । अचानक मेरे अवचेतन मस्तिष्क ने कार में जोरदार ब्रेक लगाये । सामने देखा तो एक बाबा, लंबी जटाओं वाले, भगवा कपड़े पहने, कार के सामने खड़े …

Continue reading »

Jul 06

भीम और बर्बरीक का युद्ध

मलं मूत्रं पुरीषं च श्लेष्मनिष्ठिवितं तथा, गण्डूषमप्सु मुञ्चन्ति ये ते ब्रह्मभिः समाः | अर्थ – जो जल में मल, मूत्र, विष्ठा, कफ, थूक और कुल्ला छोड़ते हैं, वे ब्रह्महत्यारों के सामान है | ये श्लोक उस समय का है, जब पांडव जुए में हार कर, जंगलो में घुमते हुए माँ चंडिका के दर्शन करके उस …

Continue reading »

Apr 24

ब्राहमण की खोज के लिए नारद जी के बारह प्रश्न

मातृकाम को विजानाति कतिधा किद्रशक्षराम । पञ्चपंचाद्भुतम गेहं को विजानाति वा द्विजः ।। बहुरूपाम स्त्रियं कर्तुमेकरुपाम च वेत्ति कः । को वा चित्रकथं बन्धं वेत्ति संसारगोचरः ।। को वार्णव महाग्राहम वेत्ति विद्यापरायणः   । को वाष्टविधं ब्रह्मंयम वेत्ति ब्राह्मणसत्तमः ।। युगानाम च चतुर्णां वा को मूल दिवसान वदेत । चतुर्दशमनूनाम वा मूलवारम च वेत्ति कः ।। कस्मिश्चैव दिने …

Continue reading »

Older posts «